UG परीक्षा फॉर्म भरने की तिथि को बढ़ाने के लिए विद्यार्थी परिषद ने दिया ज्ञापन

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय इकाई द्वारा विभिन्न छात्र मांगों को लेकर परीक्षा नियंत्रक को ज्ञापन सौंपा गया।

इकाई अध्यक्ष करण भटनागर ने बताया कि नवंबर माह में यूजी परीक्षाओं के परिणाम घोषित हुए थे जिनमें अधिकतर विद्यार्थी फेल हो गए थे, प्रशासन द्वारा उन्हें पुनर्मूल्यांकन के परीक्षा फॉर्म भरने तथा पुनर्मूल्यांकन का परिणाम 2 माह के भीतर निकालने का आश्वासन दिया गया था परंतु 5 महीने का समय बीत जाने के बाद भी हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय प्रशासन अभी तक पुनर्मूल्यांकन के परिणाम घोषित नहीं कर पाया है विश्वविद्यालय के इस रवैये के हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के अंदर आने वाले महाविद्यालयों के छात्र परेशान है उन्हें यह समझ नहीं आ रहा कि वह कौन सी कक्षा का फॉर्म भरे हैं क्योंकि अगर पुनर्मूल्यांकन के परिणाम में वह पास हो जाते हैं तो उनका 1 साल बर्बाद हो जाएगा क्योंकि विश्वविद्यालय द्वारा 4 अप्रैल से परीक्षाएं कंडक्ट करवाने की अधिसूचना जारी कर दी गई है ऐसे में छात्रों में असमंजस है कि वे कौन से ईयर का फॉर्म भरें | ऐसे में वि वि की कार्यप्रणाली के चलते आम छात्रों को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है प्रतिदिन पूरे प्रदेश से छात्र अपने पुनर्मूल्यांकन के परिणाम को लेकर विश्वविद्यालय पहुंच रहे हैं तथा वहां से उन्हें कोई भी सही मार्गदर्शन नहीं मिल पा रहा है |
दूसरी तरफ अगर बात करें हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय द्वारा परीक्षा फॉर्म भरने से संबंधित जारी अधिसूचना की तो हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय प्रबंधन ने पिछले कुछ समय से बार बार परीक्षा फॉर्म भरने की अधिसूचना है तो जारी कर रहा है परंतु विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा नाही तो लेट कॉलेज केपेसिटी का रिजल्ट पूरी तरह से घोषित किया गया है ना ही अभी तक पुनर्मूल्यांकन के पूरे परिणाम घोषित किये गए हैं |
अतः छात्रों के हितों को ध्यान में रखते हुए विद्यार्थी परिषद हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय इकाई हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय प्रशासन से यह मांग करती है कि जल्द से जल्द पुनर्मूल्यांकन के परिणाम निकाले जाएं तथा UG के परीक्षा फॉर्म भरने की तिथि को आगे बढ़ाया जाए ताकि छात्रों को किसी प्रकार की असुविधा ना हो |
विद्यार्थी परिषद विश्वविद्यालय इकाई प्रशासन से यह मांग करती है कि जल्द से जल्द इन मांगों को पूरा किया जाए नहीं तो आने वाले समय में विश्वविद्यालय प्रबंधन के खिलाफ एक उग्र आंदोलन तमाम प्रदेशभर के छात्रों को लामबंद करते हुए विश्वविद्यालय इकाई करेगी