आरक्षित मूल्य से 10.66 प्रतिशत अधिक दरों पर नीलाम हुई आबकारी इकाईयां

जिला की पांचों आबकारी इकाईयों के आबंटन के लिए वीरवार को यहां बचत भवन में एडीसी जितेंद्र सांजटा की अध्यक्षता में निविदा प्रक्रिया पूर्ण कर ली गई। आबंटन प्रक्रिया में कुल 19 आवेदन प्राप्त हुए।
सबसे पहले इकाई संख्या-1 नादौन की बोली आरंभ की गई। इसके लिए कुल 4 आवेदन प्राप्त हुए। बोली और निविदा प्रक्रिया के बाद बीके लिकर को 24 करोड़ 72 लाख रुपये के साथ सफल आबंटी घोषित किया गया।
आबकारी इकाई संख्या-2 हमीरपुर के लिए कुल 5 आवेदन प्राप्त हुए। इनमें सर्वाधिक निविदा के साथ प्रभात सिंह एण्ड अमित कौशल को दायर मूल्य 22 करोड़ 66 लाख 20 हजार रुपये के साथ सफल आबंटी घोषित किया गया।
आबकारी इकाई संख्या-3 सुजानपुर के लिए कुल तीन आवेदन प्राप्त हुए। इस इकाई के लिए 14 करोड़ 5 लाख रुपये की सर्वाधिक बोली अंकुश गुप्ता सपुत्र भूमसेन गुप्ता ने लगाई तथा उन्हें सफल आबंटी घोषित किया गया।
इसके उपरांत इकाई संख्या-4 बड़सर के लिए नीलामी प्रक्रिया शुरू की गई। इस इकाई के लिए कुल 2 आवेदन प्राप्त हुए। इनमें 19 करोड़ 46 लाख रुपये की बोली लगाने वाले कृष्ण कुमार को सफल आबंटी घोषित किया गया।
आबकारी इकाई संख्या-5 भोरंज के लिए कुल 5 आवेदन प्राप्त हुए। इनमें 23 करोड़ 54 लाख 44 हजार रुपये की सर्वाधिक निविदा के लिए रमेश चंद सपुत्र नंद लाल गांव पारछु जिला मंडी को सफल आवंटी घोषित किया गया।
नीलामी प्रक्रिया में पांचों आबकारी इकाईयों के लिये निर्धारित कुल आरक्षित मूल्य 94,37,96,900 रुपये की तुलना में 10,05,67,544 रुपये अधिक निविदाएं एवं बोली प्राप्त हुई जोकि निर्धारित आरक्षित मूल्य से 10.66 प्रतिशत अधिक है।
इस नीलामी प्रक्रिया में पर्यवेक्षक के रूप में संयुक्त आयुक्त, राज्य कर एवं आबकारी कुलभूषण गौतम (ईआईयू मुख्यालय), संयुक्त  कर एवं आबकारी (उतरी क्षेत्र) समाहर्ता पालमपुर तथा उप आयुक्त राज्य कर एवं आबकारी हमीरपुर वरुण कटोच सदस्य के रूप में मौजूद रहे।