सिरमौर को टीबी मुक्त बनाने के लिए सभी विभाग मिलकर करे कार्य-उपायुक्त

सिरमौर जिला को टी.बी. मुक्त बनाने के लिए संबंधित विभागों को मिलकर कार्य करना होगा ताकि 2025 तक हम जिला सिरमौर को टी.बी. मुक्त बना सके। यह जानकारी उपयुक्त सिरमौर सुमित खिमटा ने आज उपायुक्त कार्यालय के सभागार में जिला क्षय रोग उन्मूलन समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी।
उन्होंने बताया कि जिला में 13 स्थानों पर क्षय रोग उपचार की सुविधा उपलब्ध है। इसके अतिरिक्त स्वास्थ्य विभाग तथा आशा कार्यकर्ताओं द्वारा बलगम की जांच के लिए घर-द्वार से नमूने एकत्रित किये जाते है ताकि लोगों को क्षय रोग की जांच करवाने मे परेशानी न हो। उन्होंने विभाग को निर्देश देते हुए कहा कि लोगों को टीबी के लक्षणों के बारे में जागरूक किया जाए ताकि टीबी का प्रारंभिक चरण में ही उपचार हो सके। टीबी के इलाज में लापरवाही मौत का कारण भी बन सकती है।
उपायुक्त ने उप-निदेशक उच्च शिक्षा को निर्देश दिये कि सभी शिक्षण संस्थानों में प्रातः कालीन सभाओं के दौरान टीबी के लक्षणों के बारे जानकारी प्रदान की जाए। उन्होंने सभी निजी शिक्षण संस्थानों को भी टीबी के बारे में जागरूक करने के निर्देश दिये। उन्होंने उद्योग विभाग को निर्देश दिये कि समय-समय पर श्रमिकों को टीबी के बारे जागरूक किया जाए और दो सप्ताह से अधिक समय तक खांसी व बुखार होने की स्थिति में श्रमिकों की टीबी जांच अवश्य करवाए।
उन्होने परियोजना अधिकारी ग्रामीण विकास अभिकरण को निर्देश दिये की वे सुनिश्चित करे की प्रत्येक पंचायत में टीबी मुक्त पंचायत अभियान के तहत समिति का गठन करें तथा उनके कार्यो की समीक्षा करना भी सुनिश्चित करें ताकि इस अभियान के तहत प्रत्येक पंचायत को 2025 तक टीबी मुक्त किया जा सके।
इस मौके पर जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. बीना सांगल ने बैठक का संचालन किया।
इस अवसर पर जिला परिषद अध्यक्षा सीमा कल्याण, मुख्य चिकित्सा अधिकारी सिरमौर अजय पाठक, जिला पंचायत अधिकारी विक्रम ठाकुर, प्रधान केमिस्ट एसोसिएशन नाहन  संदीप शर्मा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *